झारखंड में कब से शुरू होगी स्कूलों में पढ़ाई,और क्या-क्या होगा नियम !

लॉकडाउन के बाद राज्य के पहली से बारहवीं तक के सरकारी स्कूल एक साथ नहीं खुलेंगे। स्कूलों को चार चरणों में खोला जाएगा। हाई और प्लस टू स्कूल जहां जुलाई में खुल सकेंगे, वहीं पहली से आठवीं की कक्षाएं अगस्त में शुरू होंगी। इसके साथ ही बड़े स्कूलों में दो शिफ्ट में पढ़ाई शुरू की जाएगी और हर कक्षा के शुरू होने और छुट्टी होने का अलग-अलग समय होगा। स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग इसकी तैयारी कर रहा है। केंद्र सरकार से स्कूल खोलने की गाइडलाइन आने के बाद इसे राज्य में लागू किया जाएगा।

कोरोना संक्रमण से राहत मिलने पर चार चरणों में सभी कक्षाओं की पढ़ाई शुरू हो जाएगी। अगले साल मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा को देखते हुए सबसे पहले इन कक्षाओं की पढ़ाई शुरू होगी। इसके साथ नौवी और ग्यारहवीं की भी पढ़ाई शुरू होगी। दूसरे चरण में छठी, सातवीं और आठवीं की पढ़ाई शुरू होगी। वहीं, तीसरे चरण में तीसरी, चौथी व पांचवीं और अंत में पहली-दूसरी की कक्षाएं शुरू होगी। राज्य के वैसे बड़े स्कूल जहां छात्र छात्राओं की संख्या ज्यादा है वहां दो शिफ्ट में पढ़ाई शुरू होगी। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए आधे बच्चे एक शिफ्ट में, जबकि बाकी आधे दूसरे शिफ्ट में आएंगे। बच्चों को स्कूलों में मास्क पहनना भी अनिवार्य होगा। स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग हर कक्षा के शुरू होने और छुट्टी होने का अलग-अलग समय निर्धारित कर रहा है ताकि एक साथ  बच्चों का हुजूम ना निकले। इसके लिए हर कक्षा के शुरू होने और छुट्टी होने में 10 से 15 मिनट का अंतराल होगा। स्कूलों में आने और जाने के लिए अलग-अलग गेट भी बनाए जाएंगे।  जुलाई में स्कूल खोलने की  केंद्र से अनुमति मिलने के बाद 21 जुलाई से हाई व प्लस टू के स्कूल खोले जा सकते हैं। 

स्कूल में नहीं बनेगा मिड डे मील : कोरोना संक्रमण से राहत मिलने पर स्कूल खुलने के बाद भी मध्याह्न भोजन नहीं बनेगा। बच्चों को मध्याह्न भोजन का अनाज और कुकिंग कॉस्ट की राशि दी जाएगी। पहली से आठवीं के बच्चों को  मिड डे मील मिलता है। पका भोजन की जगह अनाज देने के लिए केंद्र से मंजूरी ली जाएगी।

स्कूलों से लिए जाएंगे शपथ पत्र : स्कूल खोलने से पहले सैनिटाइजेशन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए  स्कूलों से शपथ पत्र लिए जाएंगे। स्कूलों को बताना होगा कि उन्होंने पूरे स्कूल का सैनिटाइजेशन करा लिया है और उसे नियमित भी कराते रहेंगे। साथी सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर बच्चों को क्लास में  बैठाएंगे। स्कूल वार ही संचालन की पूरी तैयारी की जाएगी। 

अगस्त से पढ़ाई शुरू होगी : राज्य परियोजना निदेशक, झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद उमाशंकर सिंह ने कहा कि हाई और प्लस टू के स्कूल जुलाई में खुल सकते हैं, जबकि प्रारंभिक स्कूलों में अगस्त से पढ़ाई शुरू हो सकेगी। स्कूल खुलने पर मिड डे मिल नहीं बनाने और  उसके बदले बच्चों को अनाज देने की भी तैयारी है। 

Reactions

Post a Comment

0 Comments